होशंगाबाद  । मध्य प्रदेश में रेशम का कारोबार बढ़ाने के लिए सरकार की ओर से नई पहल की जा रही है । गौरतलब है कि पहली रेशम मंडी होशंगाबाद जिले के बाबई कृषि फार्म में खुलेगी। जिसका लाभ जिले के करीब  25 हजार किसान लेंगे । ग्रामोद्योग, उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण के प्रमुख सचिव प्रवीर कृष्ण ने बताया कि एक एकड़ क्षेत्र में रेशम उत्पादन से चार से छह लाख रुपए की आमदनी हाे सकती है।     बाबई फार्म को ककून फार्म के रूप में विकसित कर आसपास के 10 गांवों को रेशम ग्राम बनाया जाएगा। बाबई को एग्रीकल्चर व फूड कल्चर के रूप में विकसित किया जाएगा। इससे शासन को लगभग एक हजार करोड़ रुपए की ... पूरा पढें...
      मुंबई । अलनीनो के असर से मानसून कमजोर हो गया है । अगले तीन चार दिनोंं में बारिश की संभावना जताई जा रही है । परन्तु यह हमारी जरुरत पूरा कर पायेगी या नहीं इसपर भी सवाल खड़ा हो रहा है । राज्य में कहीं पानी की कमी और कहीं ज़रूरत से अधिक पानी एक बड़ी समस्या है । इसके मद्देनजर सरकार द्वारा 'जलयुक्त शिवार' नामक कार्यक्रम की पहल की गई है ।     जैसे अकोला ज़िले के तेल्हारा गाँव में हर साल बारिश के बाद गौतमी नदी में बाढ़ आने से फसल बह जाती है तो लातूर ज़िले के गंगापुर गाँव में रोज़ क़रीब एक लाख लीटर पानी की ज़रूरत पड़ती है उसको जहा से पानी उपलब्ध कराया जाता है वहां सूखे जैसी स्... पूरा पढें...
      दिल्ली । प्याज के बढ़ते दाम देखते हुए इसकी प्यास कम होती नजर आ रही है । लेकिन एशिया की सबसे बड़ी प्याज की मंडी महाराष्ट्र के लासलगांव से मिली खबर के अनुसार थोक बाजार में प्याज की आवक बढ़ने से दाम आज तीन रुपये से घटकर 45 रुपये किलो तक आ गए है । हालांकि, देशभर के खुदरा बाजारों में प्याज का दाम अभी भी 80 रुपये किलो का आकड़ा छोड़ नहीं रहा है । जिससे उपभोक्ता की आँखों में बिना प्याज के कटे ही आंसू छलक रहे है ।     राष्ट्रीय बागवानी अनुसंधान एवं विकास प्रतिष्ठान (एनएचआरडीएफ) के आंकड़ों के अनुसार लासलगांव मंडी में प्याज के थोक दाम पिछले सप्ताह के 48 रुपये किलो से घटकर 45 रुपये किलो रह... पूरा पढें...
      अंबाला । खेती के लिए पानी के महत्व को जानते हुए सरकार द्वारा नवनवीन कार्यक्रम खोजे जाते है । उसीमें से एक है एकीकृत जलग्रहण प्रबंधन कार्यक्रम । इस परियोजना के तहत हरियाणा में करीबन 96 करोड़ की राशि खर्च की जाएगी।     परियोजना के तहत जिला का 79597 हेक्टेयर क्षेत्र माइक्रो वाटर शेड इत्यादि कार्यक्रमों के लिए कवर किया जा रहा है। यह परियोजना तीन चरणों में पूरी की जाएगी। प्रथम चरण में 31 करोड़ 77 लाख 84 हजार रुपये की राशि खर्च कर 26482 हेक्टेयर क्षेत्र में वाटर शेड इत्यादि का निर्माण करने की प्रक्रिया आरंभ की गई है। परियोजना की कुल लागत की 4 प्रतिशत राशि गावों की एंट्री प्वाइंट एक्... पूरा पढें...
      मंडी । किसान को सबसे बड़ी दिक्कत अपने उपज को बेचने की होती है । इस समस्या के समाधान के लिए हिमाचल प्रदेश के राज्य कृषि उपज विपणन बोर्ड ने बालीचौकी में अस्थायी सब्जी मंडी खोलने की प्रक्रिया पूरी कर ली है। जिसके माध्यम से बालीचौकी क्षेत्र के करीब पंद्रह हजार किसान अपने उत्पाद बेचने के लिए कई और नहीं बल्कि अपने घर के पास ही उत्पाद बेच सकेंगे। इसीतरह कटौला, टिक्कन व करसोग में भी इस साल अस्थायी सब्जी मंडी खोलकर किसानों व बागवानों को यह सुविधा प्रदान की जाएगी।     इन अस्थायी मंडियों के जरिये किसान अगले माह निकलने वाले टमाटर को अपने घर के निकट ही बेच सकेंगे । बालीचौकी क्षेत्र में से... पूरा पढें...
      बागपत । नई आधुनिक तकनीक का उपयोग करके किसान अपनी  आय में जरूर बढ़ोतरी कर सकता है । इसका उदाहरण है उत्तर प्रदेश का ही एक किसान जिसने सहफसली तकनीक का उपयोग कर अपनी आय में वृद्धि लाई है ।      बागपत जिले के बावली गांव के सतपाल राणा के पिता चौहल सिंह का निधन करीब पंद्रह वर्ष पूर्व हो गया था, जिसके बाद उनके सिर पर खेतीबाड़ी करने की जिम्मेदारी आ गई। एक दशक तक तो उन्होंने भी सामान्य किसानों की तरह फसलों का उत्पादन किया, लेकिन जब नुकसान अधिक और फायदा कम हुआ तो उनकी आंख खुली। फिर उन्होंने अपनाया खेती करने का नया फार्मूला।     इस किसान ने इन तीन फार्मूले के ... पूरा पढें...
      दिल्ली । चीनी जीतनी मीठी होती है उतनी ही बड़ी समस्या देश के अर्थव्यवस्था पर भी डालती है । जैसे की गन्ना किसानों का बकाया 21,000 करोड़ रुपये के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया है। इसी सिलसिले में सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने पूर्व कृषि मंत्री व राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार पहुंचे । इस समस्या की गंभीरता को समझते हुए  चीनी का बफर स्टॉक बनाने का सुझाव पवार ने दिया ।     प्रधानमंत्री को सौंपे ज्ञापन में पवार ने कहा, यह काफी चिंता की बात है कि 2014-15 के चीनी सत्र के लिए ही गन्ना किसानों का बकाया 21,000 करोड़ रुपये से अधिक हो गया है। यह चीनी उद्योग ... पूरा पढें...
      दिल्ली । सबके सामने एक किसान ने अपनी जान गवां दी और कोई उसे रोक नहीं पाया । इससे अधिक शर्मनाक बात क्या हो सकती है.... । इस घटना पर  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कहना कहा है कि देश के किसान ख़ुद को अकेला न समझें, सरकार उनके बेहतर कल के लिए प्रयास कर रही है ।     मोदी द्वारा किये गए ट्वीट में लिखा है कि गजेंद्र की मौत से पूरा देश दुखी है । हम बहुत निराश है और परिवार के प्रति संवेदनाएं भी जताई । आम आदमी पार्टी ने राजस्थान के इस किसान की मौत की वजह दिल्ली पुलिस की तरफ़ से तुरंत कदम न उठाए जाने को बताया है । वहीं दिल्ली पुलिस का कहना है कि वो इस घटना की परिस्थितियों की जांच ... पूरा पढें...
      दिल्ली । कई किसानों ने अपनी जान गवाने के बाद आख़िरकार सरकार ने उनकी सूद ले ही ली । उनकी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को किसानों के लिए 33 फीसदी फसल की बर्बादी पर पहले के मुकाबले डेढ़ गुना अधि‍क मुआवजे का ऐलान किया । जिससे किसानों को मिलने वाली मौजूदा सहायता राशि में 50 फीसदी वृद्धि की गई है, बल्कि प्रचलित मानकों से इतर अब किसानों को 33 फीसदी फसल बर्बाद होने पर भी सब्सिडी मिलेगी । अभी तक 50 फीसदी या उससे अधिक फसल बर्बाद होने पर ही सब्सिडी मिलने का प्रावधान था ।     मोदी बुधवार को 'प्रधानमंत्री मुद्रा योजना' की शुरुआत के मौके पर आयोजित समारोह में बोल रहे थे। ... पूरा पढें...
      इंदौर । गोहत्या पर प्रतिबन्ध पर सरकार के कदम तेजी से बढ़ रहे है । इंदौर में आयोजित जैन संत-साध्वी सम्मेलन के दौरान गृह मंत्री राजनाथ सिंह से वक्ताओं ने गोहत्या और गोमांस के निर्यात पर पूर्ण प्रतिबंध की मांग की । उन्होंने कहा कि हम गोहत्या पर प्रतिबंध लगाने की मांग का समर्थन करते हैं, लेकिन मौजूदा समय में संसद में कानून पारित करवाना आसान नहीं है। इसके लिए आम सहमति बनाने के प्रयास किए जाएंगे ।      मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी इस कार्यक्रम में शामिल हुए। समारोह में पहुंचे गृह मंत्री राजनाथ सिंह से वक्ताओं ने गोहत्या और गोमांस के निर्यात पर पूर्ण प्रतिबंध... पूरा पढें...
      इंदौर । गोहत्या पर प्रतिबन्ध पर सरकार के कदम तेजी से बढ़ रहे है । इंदौर में आयोजित जैन संत-साध्वी सम्मेलन के दौरान गृह मंत्री राजनाथ सिंह से वक्ताओं ने गोहत्या और गोमांस के निर्यात पर पूर्ण प्रतिबंध की मांग की । उन्होंने कहा कि हम गोहत्या पर प्रतिबंध लगाने की मांग का समर्थन करते हैं, लेकिन मौजूदा समय में संसद में कानून पारित करवाना आसान नहीं है। इसके लिए आम सहमति बनाने के प्रयास किए जाएंगे ।      मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी इस कार्यक्रम में शामिल हुए। समारोह में पहुंचे गृह मंत्री राजनाथ सिंह से वक्ताओं ने गोहत्या और गोमांस के निर्यात पर पूर्ण प्रतिबंध... पूरा पढें...
      दिल्ली । आलू किसानों को उचित दाम न मिलने से और कर्ज न चूका पाने से आत्महत्या का मार्ग चुन लिया है । बम्पर फसल होने के बावजूद अपने कृषि कर्ज को चुकाने में असमर्थ रहने के बाद आलू उगाने वाले एक और किसान ने पश्चिम बंगाल में आत्महत्या कर ली है ।     पुलिस ने बताया कि 32 वर्षीय मृणाल कांति सरकार ने सोमवार को पड़ोसी बीरभूम जिले के नानूर में अपने खेत में कीटनाशक खा लिया । उसे एक स्थानीय अस्पताल ले जाया गया, जहां से उसकी हालत बिगड़ने के बाद उसे वर्धमान मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में लाया गया , जहाँ उसे मृत घोषित किया गया । वही शनिवार को वर्धमान ज़िले में आलू किसान अतुल प्रसाद ने कथित तौ... पूरा पढें...
      दिल्ली। युवाओं का कौशल विकसित करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डेढ़ हजार करोड़ की मंजूरी देते हुए कौशल विकास योजना का आरम्भ किया है । इसके जरिये 24 लाख युवाओं को विभिन्न तरह के रोजगार के लिए प्रशिक्षित किया जा सकेगा। इसी तरह केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय अल्पसंख्यक विकास और वित्त निगम की अधिकृत शेयर पूंजी को बढ़ाने के प्रस्ताव को भी मंजूरी दे दी है।     पहली बार  प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना को प्रभावी तरीके से लागू करने के लिए 1500 करोड़ रुपये जारी किए गए है।  युवाओं को प्रशिक्षण देने के लिए प्रणाली और पाठ्यक्रम आदि की तैयारी पहले से ही शुरू कर दी थी । पाठ्यक्रम ... पूरा पढें...
      दिल्ली । रेडियो के माध्यम से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसानों से 'मन की बात' कार्यक्रम के माध्यम से सच्चाई को सामने रखने की कोशिश की । गाव में बसे मासूम किसानों को भूमि अधिग्रहण बिल के माध्यम से गुमराह करने वालों पर कटाक्ष रखा । दरअसल प्रधानमंत्री ने देश के किसानों से कहा कि उनकी सरकार किसानों से कोई अधिकार छीनने की बजाय उन्हें दोगुना फायदा देने की नीति बना रही है। भूमि अधिग्रहण बिल के नए नियमों के बारे में विस्तृत चर्चा की ।     इतनी सारी चिट्ठियों को देख और पढ़ कर पीएम मोदी ने दर्द का एहसास किया। मोदी ने माना कि मौजूदा कानून में कई खामियां हैं, लेकिन सरकार उसे स... पूरा पढें...
      मधुमक्खी पालन कृषि से ही जुड़ा एक व्यवसाय है । जिसमें कम लागत और अधिक मुनाफा है । कृषि से जुड़े लोग या फिर बेरोजगार युवक इस व्यवसाय को आसानी से अपना सकते है । कृषिभूमि आपको यह व्यवसाय करने की राह बताने जा रहा है ।     मधुमक्खी पालन उद्योग करनेवालों की खादी ग्राम उद्योग कई मात्रा में मदद करता है ।  मधुमक्खी पालन एक लघु व्यवसाय है, जिससे शहद एवं मोम प्राप्त होता है। यह एक ऐसा व्यवसाय है, जो ग्रामीण क्षेत्रों के विकास का पर्याय बनता जा रहा है। गौर करनेवाली बात यह है कि शहद उत्पादन के मामले में भारत पांचवें स्थान पर है।     मधुमक्खी के प्रकार   इ... पूरा पढें...
ताजा खबर देश विदेश
Total Hits
web counter